Great India

with unite and love to all

108 Posts

289 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4773 postid : 825885

काम प्यारा होता है नाम नहीं

Posted On: 1 Jan, 2015 Others,social issues,Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

नया साल २०१५ सबको मुबारक हो और सबके दामन में खुशियां भर दे एकता और प्रेम दे
खुदी को कर बुलंद इतना हर तक़दीर से पहले
के खुदा बन्दे से खुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

एक मनुष्य अगर दिन रात आम जनता की सेवा करता है और जिस पर भी उसकी नज़र पड़ती है वो सबकी हाल चाल पूछता है हर एक की मदद करता है हर एक की मुसीबत में काम आता है जब भी किसी से मिलता है तो यही पूछता है के मैं आपके लिए क्या कर सकता हूँ जथा शक्ति तथा भगति की बात करता है किसी से भेद भाव नहीं रखता है उसके लिए यही काफी है के एक मनुष्य है एक ज़रूरतमंद है बस अपने काम में लग जाता है सबकी दुयायें लेता है सबका आशीर्वाद लेता है जबकि वो अपना काम भी समय से करता है अपना कुछ नुकसान भी नहीं करता बाल बच्चों की अच्छी परवरिश करता है अच्छी तालीम देता है गलत से डरता है जो भी करता है सोच समझ कर करता है बच्चों पर नज़र रखता है जो भी खाता है हलाल ही खाता है किसी का हक़ नहीं मरता किसी से छीन कर नहीं खाता हलाल मिल गया तो खा लिया नहीं तो ईश्वर के आगे हाथ उठा कर मांगता है अपनी उस गलती की माफ़ी चाहता है जो उसने जान बुझ कर नहीं की उसको पता भी नहीं के उसने कोई गलती की है मगर इतना पता है के आज मैं भूखा हूँ इसका मतलब ज़रूर है के मैं ने कुछ तो गलत किया है ऐसा हो नहीं सकता के मैं भूखा रह जाऊं उसने वादा किया है के मैं भूखा रुलाता ज़रूर हूँ मगर सुलाता नहीं तो आज मैं जो रो रहा हूँ ज़रूर मेरे किसी गलती की सजा है क्यूंकि जो भी भूखा रहे या भूख के वजह से भोजन के लिए रोये उसकी दो ही वजह हो सकती है या तो उसने कोई मज़दूरी नहीं की अगर मज़दूरी की भी तो मेहनताना नहीं मिला अगर मिला भी तो चोरी हो गया या फिर उसने उस रब उस ईश्वर की मज़दूरी नहीं की जिसने सबको खिलाने की ज़िम्मेदारी ले रखा है वही कहता है के तुम अगर अगर अपनी धन को मेरे हिसाब से रखो और कमाओ तो मैं उस धन की हिफाज़त करता हूँ अगर तुम अपनी कमाई में से २.५% मेरे गरीब और लाचार बन्दों पर खर्च कर दो और अपनी बाक़ी धन जहाँ दिल करे रखो मैं उसका ज़िम्मा लेता हूँ तो अगर इन सब काम के बावजूद वो मनुष्य भूखा है तो ज़रूर कुछ उस से गलती हुयी है या अगर सब कुछ ठीक है तो फिर उस से उसका रब उसका ईश्वर उस से इम्तेहान ले रहा है के हर तरह का आराम तो मैं ने तुमको दिया है तो तुम मेरी बात मानते हो मेरी पूजा करते हो ज़रा देखूं तो एक समय तुमको भूखा रख कर के तुम अब भी मेरी पूजा करते हो या नहीं लोगों के साथ भलाई करते हो या नहीं लोगों की सेवा करते हो नहीं मुझ पर भरोसा करते हो या नहीं मुझ पर तेरा ईमान है के नहीं अगर यहाँ भी वो मनुष्य कामयाब हो जाता है और अपने रब की हर हुक्म को बखूबी मानता है उसकी इबादत ( पूजा ) करता है उसके हर हाल पर उसका शुक्र करता है और अपने रब से निराश नहीं होता है रब से मुंह नहीं फेरता है अपने भाइयों की मदद करना उनकी हिफाज़त करना उनके हर दुःख दर्द में साथ देना नहीं छोड़ता तो अब उसे इनाम मिलने की बारी आती है सबसे पहले
१. वो मनुष्य जिस गांव का रहने वाला है जिन लोगों का भाई है जिन लोगों का पडोसी है जिनका भी चाहिता है लोग उसे दिल से प्रणाम करते हैं भरोसा करते है इज़्ज़त करते उसे अपना मानते हैं उसके भी दुःख दर्द को अपना मानता है उसका ख्याल रखते हैं उसे जान सेवक या समाज सेवक कहते हैं उसे ईमानदार और नेक कह कर उसकी तारीफ करते हैं उसे अपना लीडर या नेता मानने को तैयार रहते हैं लोगों को संकोच नहीं होता निसंदेह लोग उस मनुष्य के हर फैसले विचार और कारनामे का आदर करना शुरू कर देते हैं इसी तरह उसकी चर्चा और बढ़ने लगती है धीरे धीरे अपने नेक नामी और कर्तब्य से पुरे समाज और फिर पंचायत फिर अंचल फिर जिला फिर राज्य और धीरे धीरे सबका चाहिता होने लगता है सबके ज़ुबान पर उसी की तारीफ और प्रशंशा होती है अब उसे अपने बारे में खुद कुछ कहने की ज़रुरत नहीं पड़ती किसी प्रचार प्रसार की कोई ज़रुरत नहीं होती उसके कारनामे स्वभाव और उसके अच्छे विचार ही उसे लोगों के दिलों तक पहुँचने के लिए काफी है अब वो चाहे तो लोगों के लिए विधायक या संसद बनना कोई मुश्किल नहीं होता आम जनता ही उसे अपना उस स्थान तक पहुंचा देती है .
२. अब अगर वो मनुष्य हर तरह से अपने छवि और कर्तब्य को निभाता रहा ईश्वर की नज़र भी उसे वो शक्ति प्रदान करती है जिस से वो काफी शक्ति शाली हो जाता है रब का भी चाहिता हो जाता है और उसे लोग सूफी संत महाप्रुष भी कहने लगते है रब उसे उस स्थान पर पहुंचा कर सबसे बड़ा इनाम दे देता है .
इस लिए यही सत्य है है के अगर कोई नाम से तिवारी या खान या सैयद है और उसके कारनामे विचार घटिया और असराहनीय हैं इंसानियत से दूर है तो कोई फायदा नहीं लोगों की नफरतों का ही शिकार होगा और अगर कोई मनुष्य नाम से हरिजन या बैठा या किसी भी ज़ात का हो मगर वो सबके दिलों में रहता हो सबके आशीर्वाद का हक़दार हो तो वही प्यारा होता है और उपरोक्त इनामों का हक़दार वही होता है .
इसलिए मैं मानता हूँ के आज आदरणीय नरेंद्र मोदी जी अगर किसी को अपने तरफ बुलाने और अपनी मोहब्बत और आदर्श से किसी को भी अवगत कराना चाहते हैं तो कर्तब्य से लोगों के बताएं लोग खुद बखुद ही आपके विचारों के डोर में बंध कर आपकी मोहब्बत में दीवाना होकर आपके साथ हो जाएंगे

अँधेरे घर का इलाज दिया और रौशनी है अनशन और प्रचार नहीं
ठंढे का इलाज कम्बल और चादर है रोना और चादर की नाम की रट नहीं
प्यासे का इलाज पानी है पानी पर भाषण नहीं
राजगद्दी का इलाज इंसाफ और हर एक की फरयाद सुनना है क्रोध और जात्यता और नाइंसाफी नहीं
जंग के लिए हथियार और हिम्मत की ज़रुरत होती है तादाद और बुज़दिली नहीं

कहाँ है आज ? कल के राष्ट्रपिता महात्मागांधी , सुभाष चन्द्र बॉस , मौलाना अबुल कलाम आज़ाद और देश के शहीदों का अच्छा हिंदुस्तान ? कब होगा फिर सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा ? जहाँ अमन हो प्यार हो एकता हो हया हो पर्दा हो हिम्मत हो हम अपने कारनामे और सवभाव से अपने वतन के नाम ऊँचा कर सकें .



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

yamunapathak के द्वारा
January 6, 2015

भारत देश सदियों से सांस्कृतिक भाषायी एकता का देश रहा है.इंसान के गन उसके काम ही उसकी पहचान होते हैं आपका यह ब्लॉग बहुत ही अच्छा है साभार

pkdubey के द्वारा
January 2, 2015

बहुत रूहानियत से परिपूर्ण आलेख आदरणीय | इस बार मैं ट्रैन से जब बापस मुंबई आ रहा था ,तो मेरे पास की साइड बर्थ पर एक मुल्ला जी बैठे हुए थे,मुझे ज्यादा बातचीत करने की आदत नहीं ,पर वह अन्य लोगों से बातचीत कर रहे थे ,उन्होंने उससे कहा -मैंने बहुत से लोगों को सऊदी भेज दिया ,मुझे भी बहुत बार बाहर जाने का मौक़ा मिला ,पर मैं अपना भारत ,छोड़कर जाना नहीं चाहता |यह सबसे अच्छा है | मैंने सोचा यह तो बहुत महान सख्स है ,ये हिन्दुस्तान भी कह सकते थे ,पर इन्होने भारत ही कहा | मैंने उनसे परिचय पूछा ,वह मुंबई में ४ व्हीलर गाड़ियों के इंजन का ओवरहॉल करते हैं | इसलिए भारत मात्र एक जाती या धर्म का नहीं ,भारत में रहने वाले प्रत्येक उस जीव का है ,जो इससे अटूट प्यार करता है | बैसे मेरे बिचार से मोदी की लीडरशिप से सभी का भला होगा |


topic of the week



latest from jagran